Mandsir

मलियावास ग्राम पंचायत

गाँव मलियावास के पूर्वज साथ लगते गाँव बिरोहॅड से आए थे| इस गाँव मे सर्वप्रथम मलिया नाम का व्यक्ति आकर बसा था इसलिए इस गाँव का नाम मलियावास पड़ा| वह अपने परिवार सहित करीब 300 साल पहले आकार बसे थे|  मालिया की अगली पीडी मे रूप चन्द हुए| करीब 200 साल पहले दादा लालू पुत्र श्री साहब राम ने पुर गाँव मे पीपल, बॅड, व नींम के पेड़ लगवाए व पूरे जीवन उनकी देखभाल की| अंतिम समय मे उन्होने गाँव वालो के बीच स्थित नींम के पेड़ को ना काटने की बात कही| उनकी मृत्यु उपरांत गाँव वालो ने उस नींम के वृक्ष के साथ अनेक नाम से मडी (पूजा स्थल) बना दिया|